वेद

संपूर्ण जीवों का परम निवास है ब्रह्मा:

प्रस्थानत्रयी के अंतर्गत तीन शीर्ष ग्रन्थ आते है, गीता,उपनिषद् एवं ब्रह्मसूत्र। गीता महाभारत का एक अध्याय है। इसमें भगवान श्रीकृष्ण ने ज्ञान,भक्ति एवं कर्ममार्ग की व्याख्या की है।
 

मानव मूल्यों की प्रतिष्ठा

वेद वैश्विक ज्ञान गंगा के उत्स (स्रोत) है। अखण्ड, अनंत, अपरिमित ज्ञान का वह बोध, जिसको तपस्वी मनीषियों द्वारा हृदयंगम किया गया वेद कहलाए। इसलिए वेद अलौकिक है और विराट सत्ता के प्रकाश का ्रद्योतक है। ईश्वर का प्रकाश कभी विभक्त नही

Syndicate content